इंस्पेक्टर ने धमकाने वाली लुटेरी मीरा को नशीला पाउडर सहित किया गिरफ्तार

000कमालगंज फर्रूखाबाद। थाना कमालगंज के इंस्पेक्टर सालिगराम वर्मा ने फोन पर धमकाने वाली युवती मीरा जाटव कों नशीला पाउडर सहित गिरफ्तार किया। जनपद कन्नौज कोतवाली गुरसहायगंज के ग्राम मलिकपुर निवासी रामदास की पुत्री मीरा लुटेरों व ठगों के गिरोह की सरगना है। वह कोतवाली फतेहगढ़ के भोलेपुर क्षेत्र में सुभाष माली के घर पर किराये पर रहती थी। इंस्पेक्टर सालिगराम वर्मा ने बताया कि मीरा को महिला सिपाही जूही सिद्धीकी एवं नरायनी देवी के सहयोग से ग्राम सदरियापुर मोड कोटिया तिराहे के निकट 500 ग्राम नशीला पाउडर सहित गिरफ्तार किया गया। उन्होने बताया कि मीरा लूट व ठगी के अलावा नशीला पाउडर भी बेचती है। वह पुलिस विभाग से बर्खास्त आरर्मोरर असगर अली के साथ बीते दिनों नैनीताल घूमने गई थी।

00पूछताछ के दौरान मीरा ने साफ मना कर दिया कि मैने मोबाइल फोन पर धमकी नही दी। यदि चाहों तो दोनों फोनों के आबाज की रिकार्डिंग चेक कर लो। मीरा ने बताया कि वह राजेश शर्मा को जानती है, विनय को नही। राजेश से ट्रेन में मुलाकात हुई थी। मीरा ने आरोप लगाया कि बसपा नेता महेन्द्र कटियार व उनके साथी संजय शर्मा ने झूठा केस लगवाया है। मेरे पिता महेन्द्र के भट्टे पर काम करते थे। ढाई वर्ष पूर्व महेन्द्र का बेटा गुरूदीप अपने दोस्त के साथ कमरे पर आया था और पिता से जरूरी मुलाकात करवाने को कहा था। मै गुरूदीप के साथ उनकी कार से गांव जा रही थी।

कोतवाली गुरसहायगंज क्षेत्र में गुरूदीप व उसके साथी ने मेरे साथ जबरन दुष्कर्म किया और मेरे विरूद्ध ही लाइसेंसी रिवाल्वर लूट की रिपोर्ट दर्ज कराई। गुरसहायगंज पुलिस ने जब मेरी रिपोर्ट दर्ज नही की तो मैने अदालत के आदेश पर रेप की रिपोर्ट दर्ज करवाई। जिसमे पुलिस ने फाइनल रिपोर्ट लगा दी। तब मैने अदालत में मुकदमा दायर किया है। 22 अप्रैल को अदालत में मेरे बयान होने थे, लेकिन नही हो सके। पहचान छिपाने के लिये नव युवती मीरा ने अपने चेहरे को ढक लिया।

मालुम हो कि मीरा ने बीते दिनों मोबाइल फोन पर इंस्पेक्टर सालिगराम वर्मा को मार डालने की धमकी दी थी। थाना कमालगंज के दरोगा कौशलेन्द्र गौतम ने 23 अप्रैल को मोहल्ला लोहिया नगर निवासी विनय जाटव व सदरियापुर निवासी राजेश शर्मा को तमंचों कारतूसों व चाबी के गुच्छे सहित गिरफ्तार किया था। ये शातिर अपराधी चोरी की योजना बना रहे थे। मीरा जाटव को संदेह हुआ कि उसके साथियों ने उसका नाम पुलिस को बता दिया। इस बात का पता लगाने के लिये मीरा ने 25 अप्रैल को फोन पर थाना प्रभारी से कहा कि तुमने निर्दोष लोगों को जेल भेज दिया।

तब श्री वर्मा ने बताया कि तुम्हारे विरूद्ध भी जांच चल रही है। मीरा ने 26 अप्रैल को फोन पर एसओ को भद्दी-भद्दी गाली देते हुये जान से मारने की धमकी दी। यदि तुमने मेरे विरूद्ध कोई कार्रवाई कि तो तुम्हे किसी झूठे मुकदमे में फंसा दूंगी। पुलिस बैंक अधिकारी को ब्लैकमैलिग करने के मामले में बीते दिनों से मीरा को तलाश कर रही है। मीरा ने जनपद कन्नौज फिरोजाबाद व कानपुर में लूट व ठगी की बारदाते की है।

बसपा नेता महेन्द्र कटियार ने बताया कि उनके छोटे बेटे गुरूदीप एडवोकेट ने 3 दिसम्बर 2014 को लाइसेंसी रिवाल्वर, चैन, अंगूठी, 12 हजार रूपये, वकालत का परिचय पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस की लूट के मामले में अज्ञात व्यक्तियों के विरूद्ध कोतवाली गुरसहायगंज में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने मीरा जाटव व उसके गिरोह के सदस्य राजेश शर्मा, विनय जाटव व प्रदीप शर्मा को गिरफ्तार कर लाइसेंसी रिवाल्वर बरामद की थी। पुलिस ने लुटेरों पर गैंगेस्टर भी लगाया।

मीरा ने 14 अप्रैल को अदालत के आदेश पर बेटे के विरूद्ध झूठा रेप का मुकदमा दर्ज कराया। जिसे पुलिस ने आईजी जोन के निर्देश पर स्पंज कर दिया। उसके बाबजूद मीरा ने अदालत में रेप का मुकदमा दायर किया है। मीरा व उसके गिरोह के सदस्यों ने एआरटीओ विभाग के सुपरवाइजर सुरेश शर्मा के पुत्र संजय के साथ फतेहगढ़ कोतवाली क्षेत्र में लूट की थी। श्री कटियार ने बताया कि मेरी छवि धुमिल करने के लिये विरोधियों की साजिश से मीरा ने उन पर झूठे आरोप लगाये है। थाना कमालगंज पुलिस ने देर शाम मीरा का स्थानीय पीएचसी में डाक्टरी परीक्षण कराया। इस दौरान डा0 मान सिंह वर्मा को मीरा के चेहरे पर पुरानी चोटों के निशान पाये।