हत्यारों को पकड़वाने की रंजिश में की गई थी कोटेदार की हत्याः दो गिरफ्तार

हत्यारों को पकड़वाने की रंजिश में की गई थी कोटेदार की हत्याः दो गिरफ्तार

फर्रुखाबाद। जिले की पुलिस ने कोटेदार रामनरेश तिवारी हत्याकांड का खुलासा कर शातिर अपराधी देवेंद्र उर्फ रिंकू यादव एवं कन्हैया ठाकुर उर्फ कन्हई को गिरफ्तार कर लिया है। कोतवाली फर्रुखाबाद के इंस्पेक्टर रविकुमार श्रीवास्तव ने जनपद कन्नौज थाना विशुनगढ़ के ग्राम पल्यौरा निवासी देवेंद्र उर्फ पिंकू पुत्र रामचंद्र एवं जनपद कासगंज थाना सिकंदरपुर बैस के ग्राम बगराही निवासी कन्हैया ठाकुर पुत्र श्रीराम को पुलिस लाइन में मीडिया के सामने पेश किया।

पुलिस अधीक्षक डा0 अनिल मिश्र ने बताया कि देवेंद्र व कन्हैया ने जनपद इटावा के थाना ऊसराहार के ग्राम पूरनपुर निवासी विमल यादव उर्फ गुड्डू पुत्र शिवप्रताप कोटेदार की हत्या की थी। इन्हीं आरोपियों ने 29 अप्रैल 2016 को मारकंडे की मद्द से कस्बा पटियाली में रिटायर्ड एसडीएम रामऔतार गुप्ता की सर्राफ की दुकान में लूटपाट की थी विरोध करने पर एसडीएम की अंगौछे से गला दबाकर हत्या कर दी थी।

आरोपी लाखों रुपए के जेवरात लेकर भाग गए थे। आरोपियों को मुकदमे में आजीवन कारावास की सजा हुई। जेल में देवेंद्र ने अपने साथियों को बताया कि मुझे ग्राम चांदपुर निवासी कोटेदार रामनरेश तिवारी ने पकडवाया था कन्हई ने बताया कि मुझे जनपद कासगंज थाना सिकंदरपुर बैस के ग्राम बड़ौसा के प्रधान आलोक तोमर ने तत्कालीन थाना प्रभारी देवेंद्र त्यागी से पकड़ा दिया था।

देवेंद्र एवं कन्हैया ने विमल के सहयोग से कोटेदार की हत्या की योजना बनाई। योजना के तहत तीनो लोग 14 मार्च को कोटेदार के घर पहुंचे और उनके पुराने वाहन को खरीदने के बहाने घर के अंदर चल कर बात करने को कहा। जब कोटेदार कमरे के अंदर गए तभी अंगौछे से गर्दन घोटकर कोटेदार की हत्या कर दी और वही पडे बोरे में कोटेदार के शव को रखा गया। बोरा फट जाने पर फटी बोरी वाले शव को प्लास्टिक की बडी बोरी में रखकर सुतडी से बांधा गया।

विमल व देवेन्द्र यादव शव की बोरी को बाइक पर रखकर ठिकाने लगाने ले जा रहे थे। इस दौरान विमल ने बाइक चलाई। जब वह लोग आवास विकास कालोनी में गुजर रहे थे तभी शव की बोरी नीचे जा गिरी। भयभीत आरोपियो ने बोरी नाले में डाल दी और लकूला मसेनी के रास्ते से चले गये। इस दौरान देवेन्द्र दिल्ली में भी छिपा रहा। देवेन्द्र कोटेदार के गांव चांदपुर में भी रहता रहा। जब देवेन्द्र एसडीएम की हत्या के मामले में फंस गया तभी कोटेदार रामनरेश तिवारी ने देवेन्द्र को पकडवाने में पुलिस की मदद की थी। कन्हैया पर थाना मऊदरवाजा एवं कंपिल में लूट व चोरी के मुकदमे दर्ज है।

कोटेदार की हत्या के बाद हत्यारे प्रधान आलोक तोमर की हत्या की योजना बना रहे थे। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर शव को ठिकाने लगाने में प्रयोग की गई बाइक  को भी बरामद कर लिया है। डॉ  अनिल मिश्र ने गुड वर्क करने वाली टीम को 5 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की। गुड वर्क करने वाली टीम में स्वाट टीम प्रभारी कुलदीप दीक्षित, कादरी गेट चौकी इंचार्ज बलराज भाटी एवं सर्विलेंस के दीवान सत्येंद्र कुमार आदि शामिल रहे। वार्ता के दौरान अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन सिंह मौजूद रहे। 

About Author