चौकी इंचार्ज ने पीडित से रूपये एैठे : लाखों की नकदी का झोला गायब, राजेपुर में एसओ की तैनाती

 

फर्रूखाबाद। पीडित सर्वेश शाक्य को थाना एवं तहसील में शिकायत करना काफी महंगा पडा। नये चौकी इंचार्ज ने पीडित को पकडकर रूपये बसूलने के बाद छोड दिया। थाना मऊदरवाजा के ग्राम पचपुखरा निवासी सर्वेश शाक्य के मकान के पडोस में पडोसी महेश शाक्य की पत्नी शकुंतला शाक्य ने गली की ओर 4 फुट लम्बा छज्जा बनाकर उस पर शौचालय बनाया। 12 मई को शौचालय का मलवा सर्वेश की छत पर गिरा। जिससे सर्वेश का लेंटर चटक गया। छत गिर जाने की नौवत आ गई। सर्वेश ने 12 मई को ही थाने में शिकायत की। जब पुलिस ने कोई कार्रवाई नही की तो सर्वेश ने 2 जुलाई को तहसील दिवस में शिकायत की। रायपुर चौकी इंचार्ज हरीओम प्रकाश त्रिपाठी एवं डायल 100 2654 बीती शाम करीब 8 बजे सर्वेश के घर पहुंचे। पुलिस ने विरोधी पक्ष से लाभ उठाकर सर्वेश की ही वहां पिटाई कर दी। सर्वेश को डायल 100 में बिठाकर रायपुर चौकी ले जाया गया।

सर्वेश की पैरवी में उनका छोटा भाई गांव के टेंट वाले मनोज कुशवाहा के साथ चौकी गये। तो चौकी इंचार्ज ने हजारों रूपयों की मांग की। बाद में 1500 रूपये लेकर सर्वेश को छोड दिया। इस दौरान सर्वेश को डायल 100 के वाहन में ही बैठाया गया। डायल 100 की ओर से थाने में ईवेंट नोट कराया गया था। नियमानुसार डायल 100 को पकडे गये व्यक्ति को थाने ले जाना चाहिए और थाने में जाने के बाद पीडित को बंद करने या छोडने का फैसला थानाध्यक्ष करते है। बताया गया कि डायल 100 की टीम ने अवैध कमाई करने के लिये दलालों को भी लगा रखा है।

जो व्यक्ति डायल 100 से जानकारी करता है तो डायल 100 जानकारी करने वाले के पास दलालों से फोन करवाते है। सूबे के मुख्यमंत्री एवं डीजीपी के सख्त आदेश के बाबजूद पुलिस कर्मी जबरदस्ती रूपयों की बसूली कर रहे है और रिश्वतखोर पुलिस कर्मी कहते है कि हमे ऊपर तक रूपया देना पडता है। पुलिस अधीक्षक से इस मामले की जांच पडताल कर रिश्वतखोर चौकी इंचार्ज एवं डायल 100 के कर्मचारियों के विरूद्ध कार्रवाई किये जाने की मांग की गई है। चौकी इंचार्ज एवं थानाध्यक्ष की प्रतिक्रिया लेने के लिये फोन किया गया। लेकिन फोन नही उठा।

लाखों की नकदी का झोला गायब

तहसील सदर सबरजिस्टार कार्यालय के गेट पर संतोष दीक्षित के विस्तर से लाखों रूपयों की नकदी का झोला गायब कर दिया गया। बीते दिन संतोष के विस्तर पर बैनामे से पूर्व विक्रेता ने खरीददार को देने के लिये संतोष को 2.70 लाख रूपये दिये। संतोष ने रूपयों का झोला अपने पास रख लिया। जब खरीददार ने संतोष से रूपये मांगे तो उससे कहा गया कि पहले बैनामा करकर आओ तब रूपये मिलेगे। बैनामा कराने के बाद खरीददार सांय करीब 4 बजे संतोष के पास रूपये लेने गया। संतोष ने रूपयों का झोला तलाशा।

झोला न मिलने पर विस्तर पर हडकम्प मच गया। डायल 100 को घटना की जानकारी दी गई। डायल 100 की सूचना पर बजरिया चौकी इंचार्ज जयप्रकाश शर्मा ने आज कई घंटो तक तहसील जाकर मामले की जांच पडताल की। सुशील कुमार गिहार के कार्यालय के बाहर सीसीटीवी कैमरा खंगाला गया। लेकिन रूपये ले जाने वाले का पता नही चला। चौकी इंचार्ज जयप्रकाश शर्मा ने बताया कि मुझे अभी तक तहरीर नही मिली है। डायल 100 की सूचना पर मामले की जांच पडताल की है।

राजेपुर में एसओ की तैनाती

पुलिस अधीक्षक डा0 अनिल मिश्र ने थाना राजेपुर में पीआरओ इंस्पेक्टर जयंती प्रसाद गंगवार की तैनाती कर दी। एसओ राजेपुर इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार सिंह का झांसी परिक्षेत्र के लिये तबादला हुआ है। उन्हे तबादले पर जाने के लिये पुलिस लाइन जाने का आदेश दिया गया। श्री गंगवार ने दोपहर से पूर्व ही थाने का चार्ज ग्रहण कर लिया। इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार सिंह को शाम तक जीप का इस्तेमाल करते देखा गया। मालुम हो कि बीते दिनों अवकाश न मिलने पर गुस्साये इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार सिंह ने आवास पर सरकारी रिवाल्वर से आत्महत्या करने के लिये गोली चलाई थी। सिपाही की सतर्कता से इंस्पेक्टर गोली लगने से बाल-बाल बच गये। एसपी ने मामले की जांच कर इंस्पेक्टर को छुट्टी दे दी थी।

 

सोशल मीडिया पर शेयर करे ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*

अन्य खबरें