अषाडी पूर्णिमा से संकिसा में भिक्षु करेगे वर्षावास : भिक्षुओं को किया जायेगा भोजन दान

 

संकिसा फर्रूखाबाद। संकिसा स्थित धम्मा लोको बुद्ध बिहार में अषाडी पूर्णिमा से दर्जनों भिक्षुगण वर्षावास का शुभारम्भ करेगे। धम्मा लोको बुद्ध बिहार प्रबंध समिति के अध्यक्ष कर्मवीर शाक्य एवं प्रबंधक राहुल शाक्य एडवोकेट ने भिक्षुओं को वर्षावास कराने की जोरदार तैयारियां शुरू कर दी है। भिक्षुओं की सुख सुविधाओं की जिम्मेदारी भिक्षु धम्म कीर्ति को सौपी गई है। फर्रूखाबाद के गंगा दरवाजा तिराहा स्थित तथागत बुद्ध बिहार के प्रमुख भिक्षु नागसेन ने बताया कि भगवान बुद्ध के निर्देश पर प्रतिवर्ष अषाडी पूर्णिमा से कुंवार शरद पूर्णिमा तक सभी भिक्षु बिहारों में वर्षावास करते है। जिसको  धम्मचक पवत्वन दिवस भी कहते है।

इस दौरान भिक्षु 3 माह तक अपने बुद्ध बिहार में रहकर धम्म, विपश्यना आदि का गहन अध्यन करते है। वरिष्ठ भिक्षु शिष्यों को आवश्यक जानकारी देते है। कोई भी भिक्षु जरूरत पडने पर वरिष्ठ भिक्षु की अनुमति से ही सुबह बुद्ध बिहार से जाता है। उसे शाम तक बुद्ध बिहार आना जरूरी है। कर्मवीर शाक्य ने बताया कि इस बार वर्षावास के दौरान स्व0 भिक्षु धम्मा लोको के प्रमुख शिष्य धम्मशील भी मौजूद रहेगे। जो सभी भिक्षुओं को आवश्यक जानकारियां देगे। 16 जुलाई अषाडी पूर्णिमा को प्रमुख उपासक शाक्य अशोक मौर्य भिक्षुओं के साथ ही सभी उपासकों को भोजन दान भी करेगे। संकिसा बुद्ध बिहार से जुडे सभी उपासकों को 16 जुलाई को प्रातः 10 बजे धम्मा लोको बुद्ध बिहार पहुंचने को कहा गया है।

 

सोशल मीडिया पर शेयर करे ||
अन्य खबरें