आवश्यक सूचना * एफबीडी न्यूज के पाठकों सूचित किया जाता है कि यदि उनकों किसी भी समाचार के सम्बंध में कोई आपत्ति अथवा सुझाव हो तो वह फोन नम्बर- 9415167404 व 8840944487 पर तुरंत ही दर्ज कराये अथवा fbdanandbhan@gmail.com पर मेल करे। *     *कायमगंज नगर क्षेत्र की खबरों व विज्ञापनों के लिए अनुराग सिंह गंगवार से संपर्क करें. फोन नंबर 6386 6056 20*






छात्र उजैर की हत्या गला कसकरः कुकर्म की आशंका, हत्यारे का सुराग नही

फर्रुखाबाद। छात्र उजैर की गला कसकर हत्या की गई थी। पल्ला चौकी इंचार्ज बनी सिंह ने मोहल्ला छोटा बंगसपुरा निवासी यूसुफ के 10 वर्षीय पुत्र जुबैर के शव को पोस्टमार्टम हाउस पहुंचवाया। डॉ सुमित सिंह एवं डॉ अनुराग वर्मा की टीम ने शव का पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी कराई गई। पोस्टमार्टम में पुष्टि हो गई कि छात्र की गला कासकर हत्या की गई थी।

छात्र के साथ कुकर्म की आशंका में स्लाइड बनाई गई। सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा करने के लिए स्वाट टीम प्रभारी कुलदीप दीक्षित की टीम को लगाया गया। पोस्टमार्टम के दौरान स्वाट टीम ने छात्र उजैर के बड़े जुनैर से व्यापक पूछताछ की। सभासद रफी अंसारी आमिर खलीफा आदि अनेकों लोग पोस्टमार्टम के दौरान मौजूद रहे। पीएम के बाद उजैर का शव घर पहुंचते ही मोहल्ले में गम का माहौल व्याप्त हो गया।

वहां स्वाट टीम के अलावा पूर्व चौकी इंचार्ज बनी सिंह एवं दरोगा अकरम खान मौजूद रहे। रात 9 बजे उजैर के शव को सुपुर्दे ए खाक करने का समय तय किया गया। बीती रात मोहल्ले के ही एक मिस्त्री ने उजैर को एक व्यक्ति के साथ घटनास्थल कुए की ओर जाते देखा। आज इस बात की चर्चा हुई कि उजैर घटना के समय लाल रंग की टी शर्ट पहने था।

मिस्त्री ने अंधेरा होने के कारण उजैर के साथ वाले व्यक्ति को नहीं पहचाना। अनुमान लगाया गया उजैर को कोई लालच देकर खेतों की ओर ले जाया गया और वहां उसके साथ जबरन कुकर्म किया गया। कुएं में शव को फेंकने के दौरान उजैर की शर्ट को गायब किया गया। घटनास्थल के पास कच्ची शराब के कई पाउच पड़े देखे गए।

कोतवाली पुलिस को अभी तक छात्र की हत्या के मामले में कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस ने बीती रात यूसुफ की ओर से अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध अपराध संख्या 929/ 19 धारा 363 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली। मुकदमे की विवेचना पल्ला चौकी इंचार्ज बनी सिंह को सौंपी गई। रिपोर्ट की तहरीर मोहल्ला घोड़ा नखास निवासी मोहम्मद नाजिम ने लिखी। लोगों में इस बात की भी चर्चा है कि इंस्पेक्टर देवेंद्र कुमार दुबे ने संवेदनशील हत्याकांड के मुकदमे की जांच स्वयं ग्रहण नहीं की।

बल्कि चौकी इंचार्ज को सौंप दी। यूपी काँप ने बीते दिनों बाइक चोरी के मुकदमे की जांच इंस्पेक्टर देवेंद्र कुमार दुबे को सौंपी थी लेकिन इंस्पेक्टर श्री दुबे ने इस मुकदमे की जांच नहीं की बल्कि जांच रेलवे रोड चौकी इंचार्ज राजीव सिंह को सौंप दी है।

छात्र की मां को पुलिस पर भरोसा नहीं

लोहिया अस्पताल में पीड़ित शवाना बेगम ने बेटे उजैर के शव का यह कहकर पोस्टमार्टम कराने का विरोध किया था कि पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करेगी। लोगों ने पीड़ित महिला को समझा कर शांत किया।

लकी है रिश्वतखोर चौकी इंचार्ज

नखास चौकी इंचार्ज भानु प्रकाश लकी साबित हुए हैं। वह बीते दिन सरकारी कार्य से दिल्ली गए हैं जिसके कारण छात्र हत्याकांड की झाम से बच गए हैं। गढी अब्दुल मजीद निवासी मनोज कुमार दिवाकर ने बीते दिनों चौकी इंचार्ज भानु प्रकाश की शिकायत की थी कि उन्होंने मुझे सिपाही राहुल यादव व संजीव गौतम से पकड़वा लिया था

चौकी में मारपीट कर 7 हजार रिश्वत लेने के बाद छोड़ा था। इस शिकायत के बाद राहुल यादव को रातों-रात तबादले पर अमृतपुर थाना क्षेत्र के लिए रवाना कर दिया गया। जबकि तबादले पर चल रहे सिपाही संजीव गौतम की रवानगी नहीं की गई। रिश्वत के मामले में चौकी इंचार्ज भानु प्रकाश के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई।

और न ही उनकी मेरठ जोन तबादले पर रवानगी की जा रही है। मालूम हो भानु प्रकाश भाजपा सांसद मुकेश राजपूत का रिश्तेदार बताते हैं। फिलहाल नखास चौकी की जिम्मेदारी पलरा चौकी इंचार्ज बनी सिंह को सौंपी गई है।