सीएम योगी बोले : मुसीबत में याद आते है बुद्ध, आलू चिप्स देश में बिके, माफियाओं के रहनुमा परेशान

सीएम योगी बोले : मुसीबत में याद आते है बुद्ध, आलू चिप्स देश में बिके, माफियाओं के रहनुमा परेशान

फर्रूखाबाद।(एफबीडी न्यूज) सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज दोपहर संकिसा सीएचसी में आरोग्य मेला का उद्घाटन कर बौद्ध स्तूप पर पूजा वंदना की। संकिसा स्थित धम्मा लोको बुद्ध बिहार में आयोजित सभा के दौरान योगी ने बताया कि कोरोना पर काबू पाने एवं वैक्सीन आ जाने पर ही पुनः प्रदेश के 3400 अस्पतालों में आरोग्य मेला का आज शुभारम्भ हुआ है। मुझे महात्मा बुद्ध की अवतरण भूमि पर आरोग्य मेले का उद्घाटन करने का सौभाग्य मिला है। उन्होने आरोग्य मेला की सुविधाओं की जानकारी देते हुये कहा कि स्वास्थ्य लाभ लेना सभी का अधिकार है।

मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि मैने स्तूप जाते समय गांव के किनारे बने शौचालय देखे। जो अरोग्य व नारी गरिमा के प्रतीक एवं स्वच्छता का संदेश दे रहे थे। अब प्रदेश के हर ग्राम पंचायत में सामुदायिक शौचालय बनाये जा रहे है। जिसकी देखरेख के लिये महिला को 6 हजार रूपये मानदेय दिया जायेगा। वर्ष 1917 से पूर्व भय व आतंक पर प्रकाश डालते हुये कहा कि अब प्रदेश का कोई भी व्यक्ति किसी भी समय आ जा सकता है। गैंगेस्टर एवं सरकारी धन लूटने वाले भयभीत है। माफियाओं की छाती पर बुलडोजर चलाये जाने पर उनके रहनुमाओं को काफी परेशानी व झटपटाहट हो रही है, रहनुमाओं के गुर्गे जान की भीख मांग रहे है।

श्री योगी ने जिले के किसानों की मेहनत की प्रशंसा करते हुये कहा कि यहां के किसानों ने कई तरीके की आलू की नई बैराइटी तैयार करते है। यहां के आलू के चिप्स पूरे देश में बिकने चाहिए। इस योजना पर भी कार्य चल रहा है। बडे कोल्ड स्टोरेज के साथ छोटे भी शीतग्रह बनना चाहिए। संकिसा के महत्व पर प्रकाश डालते हुये कहा कि यहां के स्तूप पर विदेशी सैलानी आते है। संकिसा का भी कुशीनगर, सारनाथ की तरह विकास होना चाहिए। श्रावस्ती, कौशाम्बी, कपिल वस्तु में पर्यटन का विकसित करने की योजना चल रही है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जब दुनिया के लोग संकट में होते है तब वह बुद्ध की ओर देखते है। यहां बुद्ध की धरती पर पैदा होने वाले लोग धन्य है। हम चाहते है कि संकिसा पर्यटन के विकास पर नई ऊंचाई पर पहुंचे। शीघ्र ही पर्यटन विभाग की टीम आकर पर्यटन के विकास की कार्य योजना तैयार करेगी। दुनिया के तीर्थ यात्री यहां आयेगे। होटल व रेस्टोरेंट का कारोबार बढने पर युवकों को रोजगार मिलेगा।

श्री योगी ने शिलान्यास एवं लोकार्पण वाली 92 करोड की लागत वाली परियोजनाओं का बटन दबाकर शिलापटो का अनावरण किया। मिशन शक्ति की पुस्तिका का विमोचन कर शिक्षक अर्पण शाक्य, नीरज शुक्ला, यदुराज सिंह पाल, रूचि वर्मा को प्रमाण पत्र भेट किये तथा अनेकों लाभार्थियों को चेके दी।

विधायक सुशील शाक्य एवं जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने मुख्यमंत्री को बुद्ध की प्रतिमाये भेट की। मंच पर सांसद मुकेश राजपूत विधायक मेजर सुनीलदत्त द्विवेदी, नागेन्द्र सिंह राठौर, अमर सिंह खटिक, जिलाध्यक्ष रूपेश गुप्ता, प्रदेश मंत्री प्रांशुदत्त द्विवेदी मौजूद रहे। कार्यक्रम में सुरेश बौद्ध कुलदीप कठेरिया, रघुवीर शाक्य, डा0 देवेश शाक्य, पूर्व प्रधान होरीलाल शाक्य, राहुल शाक्य एडवोकेट, नाहर सिंह वर्मा, अमित शाक्य, सुभाष शाक्य, अक्रांत शाक्य, सुलदीप शाक्य, मनोज चतुर्वेदी, राघव दीक्षित, अतुल दीक्षित, शिवसरन शाक्य, विजय शाक्य, कमलेश शाक्य सहित हजारों लोग मौजूद रहे। जिनमे महिलाओं की काफी भागेदारी थी।

पास न मिलने पर भाजपा नेता मायूस

मुख्यमंत्री की सभा का पास न मिलने के कारण भाजपा नेताओं ने धम्मा लोको बुद्ध बिहार के बाहर बैठकर समय बिताया। बुद्ध बिहार के अध्यक्ष कामरेड कर्मवीर शाक्य बिहार के बाहर बैठे रहे। भाजपा नेता सत्यपाल सिंह, पूर्व विधायक कुलदीप गंगवार, डा0 भूदेव सिंह राजपूत, भाजपा नेत्री मिथलेश अग्रवाल वहां पहुंचे। जब उन्हे कार्यक्रम में जाने का पास नही मिला तो वह कर्मवीर के पास ही बैठे रहे।

मुख्यमंत्री को बिजली से खतरा

सूबे के मुख्यमंत्री योगी को संकिसा स्थित स्तूप के निकट बिजली का खतरा था। श्री योगी के हेलीकॉप्टर के आने से पहले जब उनके सुरक्षा कर्मी स्तूप पर पहुंचे। तब उनकी नजर स्तूप के निकट गारद के कैम्प के लिये बिजली की लाइन पर पडी। सुरक्षा कर्मियों के निर्देश पर जेई तुरंत ही मौके पर पहुंचे। उन्होने लाइनमैन से बिजली की लाइन हटवाई।

स्तूप पूजन के दौरान मुख्यमंत्री को भेट की गई शाल

संकिसा भिक्षु एसोसिएशन के अध्यक्ष डा0 भिक्षु धम्मपाल महाथैरों, संरक्षक भिक्षु एस नंदा महाथैरो, नेपाल के भिक्षु संघरक्षित एवं भिक्षु धम्म कीर्ति ने मुख्यमंत्री को पूजा वंदना करवाकर पंचशील का त्रिशरण पाठ किया। इसी दौरान भिक्षु एस नंदा महाथैरों ने मुख्यमंत्री को शाल भेट की। मुख्यमंत्री के द्वारा पूछे जाने पर डा0 धम्मपाल महाथैरों ने उन्हे संकिसा स्तूप के इतिहासिक महत्व की जानकारी दी।

इसी दौरान भिक्षु संघ की ओर से मुख्यमंत्री को 10 सूत्री मांग पत्र दिया गया। जिसमे मोहम्मदाबाद हवाई पट्टी को संकिसा हवाई अड्डे में परिवर्तित करने, संकिसा भोगांव मार्ग, संकिसा मोहम्मदाबाद मार्ग, संकिसा कायमगंज मार्ग एवं संकिसा अलीगंज मार्ग का फोरलेन में निर्माण कराने, ग्राम जसराजपुर पुनपालपुर एवं सराय अगहत में तोरण द्वारों का निर्माण, संकिसा में स्ट्रीट लाइट व 24 घंटे बिजली की आपूर्ति, बौद्ध स्थल पर संग्रालाय, पुस्तकालय एवं वाचनालय का निर्माण, विदेशी सैलानियों के लिये शुद्ध स्वच्छ शीतल पेयजल, शुलभ शौचालय एवं स्तूप परिसर के सौन्दर्यीकरण की मांग की गई।

संकिसा से देश के प्रमुख महानगरों के लिये बस सेवा शुरू करने, संकिसा के पूर्व में निर्धारित 150 बीघा में बुद्ध पार्क एवं डियर पार्क बनवाये जाने, जसराजपुर, राजघाट स्थित 25 बीघा जमीन पर पर्यटक पार्क बनवाये जाने, बुद्ध पूर्णिमा महोत्सव तथा शरद पूर्णिमा महोत्सव को सरकारी महोत्सव घोषित करने, संकिसा में भगवान बुद्ध के नाम पर विश्वविद्यालय, महाविद्यालय व विद्यालय की स्थापना कराये जाने की मांग की गई। इस दौरान विधायक नागेन्द्र सिंह राठौर व डीएम एसपी मौजूद रहे।

जब मुख्यमंत्री ने अगरवत्ती व मोमबत्ती जलाई उस दौरान कमिश्नर ने सामने से फोटो ग्राफरों को हटा दिया। रघुवीर शाक्य ने पूजन के लिये वर्तन आदि सामग्री के साथ ही बैठने के लिये आशन व गमलों की व्यवस्था करवाई। जब कि प्रशासन की ओर से विछाने के लिये गंदी दरी दी गई थी।

Categories: Breaking News

About Author