पंचायत घर में जानवर बांधने वालों पर एफआइआरः गांव में आबादी का सर्वेक्षण शुरू

पंचायत घर में जानवर बांधने वालों पर एफआइआरः गांव में आबादी का सर्वेक्षण शुरू


फर्रुखाबाद। (एफबीडी न्यूज) जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह ने पंचायत घर में जानवर बांधने वालों के विरुद्ध एफ आई आर दर्ज करने का निर्देश दिया है। जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने आज सायंकाल ब्लाक मोहम्मदाबाद के ग्राम पिपरगांव स्थलीय निरीक्षण कर विकास व निर्माण कार्यो का जायजा लिया तथा जूनियर विद्यालय में चैपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी सामुदायिक शौचालय एवं खेल मैदान का किया लोकार्पण। गांव में पंचायतघर, विद्यालयों, सामुदायिक शौचालय, एनओएलबी शौचालय के अच्छे कार्य की सराहना की।

देखा गया कि घरेलू कनेक्शन हेतु पेयजल लाइन डालने के बाद खड़ंजे को समतल नहीं कराया गया। डीएम ने अधिशाषी अभियन्ता जलनिगम को तत्काल सडक को ठीक कराने के निर्देश दिए।निरीक्षण के दौरान यूनानी अस्पताल बन्द मिला। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि जांच कर देखे कि अस्पताल में डाक्टर तैनात है उसके बाद भी अस्पताल बन्द है तो डाक्टर पर कार्यवाही की जाए। यदि डाक्टर की तैनाती नहीं हुई है तो डाक्टर को तैनाती कर अस्पताल नियमित खुलवाया जाए।

पंचायत घर में जानवर बांधने की शिकायत मिलने पर डीएम ने नाराजगी जाहिर की। जिलाधिकारी ने जानवर बांधने वालों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराने के दिए निर्देश। उन्होंने तालाबों की अच्छे से सफाई कराये जाने, सभी हैण्डपम्पों पर सोखपिट का निर्माण कार्य कराने की हिदायत देते हुए हैण्डपम्प का पानी गलियों में बहता न दिखने की चेतावनी भी दी। गांव में 46 लोगों की विरासत दर्ज की गई थी। जननी सुरक्षा योजना एवं प्रधानमंत्री मातृ वन्दना योजना के अन्तर्गत लाभार्थियों का भुगतान भी अच्छा पाया गया।

गांव की आबादी का सर्वेक्षण शुरू

जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने ब्लाक कमालगंज के ग्राम महरूपुर बीजल में लैपटाॅप पर क्लिक कर ड्रोन कैमरा से ग्रामीण आबादी सर्वेक्षण (घरौनी) का शुभारम्भ किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि ड्रोन कैमरा सर्वेक्षण अब ग्राम सभा की आबादी की भूमि पर बने मकान का स्वामित्व उस व्यक्ति के नाम होगा। वह लोग उस भूमि के स्वामी अभिलेखों में हो जायेंगे उनके मकान का अलग नक्शा होगा। ग्रामीण आबादी का भी एक नक्शा होगा। मकान के विवाद कम हो जायेंगे और यदि भविष्य में कभी विवाद होंगे तो अभिलेखीय आधार पर निर्णय होगा।

अनावश्यक मुकदेबाजी समाप्त होगी और भूमि विवादों में भी कमी जायेगी। अब ग्रामीण मकान का स्वामित्व मिल जाने के कारण स्वामी को बैंक से लोन मिल सकता है, जिससे वे अपना व्यवसाय आदि भी कर सकते है। डीएम ने कहा कि ड्रोन कैमरा सर्वेक्षण के दौरान चूने से प्रत्येक घर की मार्किंग अच्छे से की जाए। मार्किंग के दौरान चूना डालने में किसी प्रकार की कोताही न की जाए। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी सदर, जिला पंचायत राज अधिकारी, आदि भी उपस्थित रहे।

Categories: Breaking News

About Author