आयुष्मान कार्ड विहीन परिवारों का 26 से मुफ्त में बनेगा गोल्डन कार्डः छूटे परिवारों को भी लाभ

आयुष्मान कार्ड विहीन परिवारों का 26 से मुफ्त में बनेगा गोल्डन कार्डः छूटे परिवारों को भी लाभ

आयुष्मान कार्ड विहीन परिवारों का 26 से मुफ्त में बनेगा गोल्डन कार्डः छूटे परिवारों को भी लाभ
फर्रुखाबाद I प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के आयुष्मान कार्ड विहीन लाभार्थी परिवारों को आयुष्मान कार्ड उपलब्ध कराने के लिए 26 जुलाई से 9 अगस्त तक विशेष “आयुष्मान पखवाड़ा” चलाया जायेगा।
मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ सतीश चंद्रा ने बताया कि शासन के निर्देश पर आयुष्मान कार्ड विहीन परिवारों को लक्षित करते हुए पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। इसमें लक्षित परिवारो को योजना के प्रति जागरूक करते हुए आयुष्मान कार्ड शिविर शतक लाने एवं अधिक से अधिक पात्र लाभार्थियों को आयुष्मान कार्ड बनवाने का हर संभव प्रयास किया जायेगा।

इस अभियान में ऐसे परिवारों को लक्षित किया जायेगा जिनमें एक भी आयुष्मान कार्ड उपलब्ध नहीं है। अब आयुष्मान कार्ड के लिए कोई भी शुल्क नहीं देना होगा, अभियान में पंचायती राज ग्राम्य विकास विभाग और आईसीडीएस विभाग आदि का सहयोग भी लिया जायेगा। ऐसे सार्वजानिक स्थान पर शिविर का आयोजन किया जायेगा जहाँ लोग आसानी से पहुँच सकेंगे।
आयुष्मान भारत योजना के नोडल अधिकारी डॉ दीपक कटारिया ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लिए बेहद ही फायदेमंद योजना है। इस योजना का उद्देश्य गरीबों व वंचित तबके को हर हाल में स्वास्थ्य सुरक्षा सुनिश्चित करना है। पहले भी लोगों को इस योजना के बारे में काफी जागरूक किया गया है। सरकार द्वारा चलाई गयी यह योजना समाज के गरीब परिवारों के स्वास्थ्य के लिए सुरक्षा कवच साबित हुयी है।

बहुत से ऐसे परिवार हैं, जो धन के अभाव में बड़ी एवं पुरानी बीमारियों का इलाज नहीं करा पाते थे। उनके लिए अब अपना और अपने परिवार का इलाज करा पाना काफी आसान हो गया है। उन्होंने कहा कि योजना के तहत कैंसर व ह्रदय रोग सहित 1450 किस्म की बीमारियों का इलाज निःशुल्क कराया जा सकता है। योजना का लाभ लेने के लिए परिवार के लोगों की संख्या या उम्र की बाध्यता नहीं है।

आयुष्मान भारत के जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ अमित मिश्र ने बताया कि लक्षित परिवारों को प्रेरित कर शिविर में लाने और आयुष्मान कार्ड बनवाने पर आशा और आरोग्य मित्रों को प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रति परिवार कम से कम एक कार्ड बनवाने पर पांच रुपये और एक से अधिक कार्ड बनवाने पर 10 रुपये दिए जायेंगे। डॉ अमित मिश्रा ने बताया कि जनपद में करीब 1.36 लाख परिवारों के गोल्डन कार्ड बनाने का लक्ष्य है।

करीब 1.69 लाख लोगों के गोल्डन कार्ड बनाए जा चुके हैं। जनपद में अब तक लगभग 5,601 लोगों ने इस योजना का लाभ उठाया है इसके तहत लगभग 5.23 करोड़ रूपए का भुगतान सरकार द्वारा किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि वह सभी लोग जिनके पास प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री द्वारा भेजा गया पत्र प्राप्त हुआ हो वह गोल्डनकार्ड बनवा लें।

क्योंकि जिनके पास गोल्डनकार्ड होगा और वह कोरोना पाजीटिव होते हैं तो इनका इलाज इसी कार्ड के द्वारा किया जायेगा।

जानें- योजना मेंआपका नाम है या नहीं

• निशुल्क हेल्पलाइन नंबर 180018004444 पर काल करके.
• अपने क्षेत्र की आशा कार्यकर्ता से भी जानकारी ले सकते हैं.
• जनसेवा केंद्र से पता कर सकते हैं.
• अस्पतालों में तैनात आरोग्य मित्रों के द्वारा भी जानकारी ले सकते हैं.

Categories: Breaking News

About Author

Related Articles