जमा पानी की सफाई कर  डेंगू बीमारी से पाये निजातः  संचारी रोग नियंत्रण अभियान 18 से

जमा पानी की सफाई कर  डेंगू बीमारी से पाये निजातः  संचारी रोग नियंत्रण अभियान 18 से


फर्रुखाबाद। स्वास्थ्य विभाग की ओर से चलाई जा रही योजनाओं पर आज स्वास्थ्य विभाग और सीफार के सहयोग से महवपूर्ण कार्यशाला का आयोजन ठंडी सडक़ होटल में किया गया।
इस कार्यशाला में मीडिया के योजना से जुड़े सवालों का अधिकारियों ने जवाब दिए।
कार्यशाला में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.सतीश चंद्रा ने बताया कि जिले में इस समय बुखार, मलेरिया और डेंगू का प्रकोप फैला है।

यदि लोग जागरुक हो जाएँ तो इसको काबू में किया जा सकता है। इसके लिए हमें अपने घरों में पानी जमा नहीं होने देना है घरो से ही डेगू फैल रहा है। उन्होंने कहा आयुष्मान भारत योजना, संचारी रोग नियंत्रण अभियान, क्षय रोग अभियान, टीकाकरण आदि अन्य तरह की 48 योजनायें जिले में विभाग द्वारा चलाई जा रहीं हैं।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दलवीर सिंह ने विभाग द्वारा चलाई जा रही सुमन योजना पर रोशनी डालते हुए कहा कि सुमन कार्यक्रम के अन्तर्गत जिले में किसी भी गर्भवती महिला की मृत्यु की जानकारी कोई भी व्यक्ति देता है तो उसे 1000 की राशि दी जाती है इसका उद्देश मातृ मृत्यु का शतप्रतिशत पंजीकरण कराना है।

आयुष्मान भारत योजना के नोडल अधिकारी डॉ दीपक कटारिया ने बताया कि इस योजना का शुभारम्भ 2018 में किया गया था यह विश्व की सबसे बढ़ी स्वास्थ्य बीमा योजना है इसके तहत जिले के 12 निजी और 10 सरकारी अस्पताल योजना के तहत लाभ दे रहे हैं। इसके तहत अब तक लगभग 5800 लोग योजना का लाभ ले चुके है जिसके तहत लगभग 7 करोड़ का भुगतान सरकार द्वारा किया जा चुका है।

जिले अब तक लगभग 1.70 लाख लोगों के गोल्डन कार्ड बनाये जा चुके हैं। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ प्रभात वर्मा ने बताया कि कोविड टीकाकरण दुनियां का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम है जिसके तहत जिले में अब तक लगभग 9 लाख लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।
डॉ वर्मा ने कहा जिस तरह जिले में कोविड की दूसरी लहर ने होली के त्योहार के बाद दस्तक दी थी तो यह कहीं न कहीं हमारी आपकी लापरवाही का ही नतीजा था। अब इस समय दीपावली का पर्व आने वाला है ऐसे में बाहर से लोग अपने घरों में आयेंगे। इस दौरान अधिक सावधानी रखनी होगी नहीं तो तीसरी लहर को आने से कोई नहीं रोक सकता है।

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ सुनील मल्होत्रा ने बताया कि लोगों के बीच एक भ्रान्ति फैली हुई है कि टीबी रोग सिर्फ फेफड़ों का रोग है लेकिन ऐसा नहीं है यह किसी भी अंग में हो सकती है। साथ ही कहा कि निक्षय पोषण योजना के तहत अब तक लगभग 1.91 करोड़ का भुगतान सरकार द्वारा क्षय रोगियों के खाते में किया जा चुका है।
जिला मलेरिया अधिकारी सुजाता ठाकुर ने कहा जिले में 18 अक्टूबर से 17 नवम्बर तक संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जायेगा इस दौरान आशा कार्यकर्त्ता द्वारा लोगों को संचारी रोगों से कैसे बचा जाये जागरूक किया जायेगा।
जिला प्रोबेशन अधिकारी अनिल चन्द्र ने बताया कि कोविड काल के दौरान अनाथ हुए बच्चों में से अब तक लगभग 90 की खोज की जा चुकी है।

जिनको बाल सेवा योजना के तहत प्रतिमाह 4 हजार रूपये सरकार द्वारा उनके खाते में भेजे जा रहे हैं। इन्हीं बच्चों में से 30 बच्चों को लैपटॉप देने की सरकार की योजना है जोकि कक्षा 9 से 12 के बीच में अध्यनरत हैं।
इस कार्यशाला में स्वास्थ्य विभाग तथा महिला कल्याण विभाग के अधिकारियों और विभिन्न मीडिया संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

कार्यशाला में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. उत्तम चन्द्र, बाल संरक्षण अधिकारी सचिन सिंह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक कंचन बाला, सीफार से स्टेट प्रोजेक्ट आफीसर ईशा सिंह, संतोष मिश्र, अनुपम मिश्र, रतीश कुमार, यूनिसेफ से डीएमसी राजीव चौहान, यूएनडीपी से मानव शर्मा, टीएसयू से रिजवान अली, अहाना प्रोजेक्ट की जिला प्रतिनधि ज्योति शुक्ला, चाई से शबाब हुसैन रिजवी आदि लोग रहें।

Categories: Breaking News

About Author

Related Articles